वास्तु दोष निवारण के सरल उपाय

आधुनिक युग में वास्तु के विषय में सभी लोग जानते हैं। अधिकतर वास्तु दोष को दूर करने के लिए घर मे तोड़ फोड़ करने की सलाह दी जाती है जैसे यह दरवाजा थोड़ा दायें या बाएं कर दो। लेकिन मैं आपको बताने जा रहा हूं बिना तोड़ फोड़  वास्तु दोष निवारण के सरल उपाय।

कोई माने या ना माने लेकिन कुछ घरों, दुकानों और कार्यालयों में बहुत अधिक वास्तु दोष होता है जिसकी वजह से घर मे अशांति, क्लेश, पैसों की बरकत ना होना, बच्चों या घर के मालिक का चाल चलन ठीक ना होना, इसी तरह से दुकान का बिल्कुल भी नही चलना, कोई ग्राहक नही आना, बिक्री कम होना आदि देखा जाता है।

इन्ही वास्तु दोष निवारण के सरल उपाय करने से आपको स्वयं फायदा नज़र आएगा।

ईशान कोण (उत्तर पूर्व दिशा) के वास्तु दोष उपाय

1) ईशान कोण वास्तु पुरुष का मस्तिष्क होता है अत: इस कोण के दोषों का निवारण करने से घर के वास्तु दोषों का अधिकांशत: निवारण हो जाता है ।

2) ईशान क्षेत्र की उत्तरी या पूर्वी दीवार कटी हो तो उस कटे हुये भाग पर एक बड़ा शीशा लगाना चाहिए, इससे भवन का ईशान क्षेत्र प्रतीकात्मक रूप से बढ़ जाता है ।

3) ईशान कोण यदि कटा हो तो ईशान कोण की दीवार पर बृहस्पतिदेव, अपने गुरु या ब्रह्नाा जी का चित्र अवश्य लगाना चाहिए ।

4) साधु पुरुषो को बेसन से बनी बर्फी या लड्डू का प्रसाद बाँटना चाहिए ।

5) चीनी मिटी के पात्र में जल में फूलो की पखुड़िया डालकर रखे । 

6) ईशान कोण की दिवार पर भोजन की तलाश में उड़ते हुए पक्षियों का चित्र लगाना चाहिए, परिवार के आलसी सदस्य कर्मशील  जायेंगे ।

7) ईशान कोण में विधि पूर्वक बर्हस्पति यंत्र की स्थापना करनी चाहिए ।

यह भी पढ़ें>>>>40 पूजा के नियम जो पूजा के दौरान याद रखे जाने चाहिए।

पूर्व दिशा के वास्तु दोष निवारण उपाय

1) यदि पूर्व दिशा कटी हो तो पूर्व की दिवार पर एक बड़ा शीशा लगाना चाहिए ।

2) घर की पूर्व दिशा में सात घोड़ो पर सवार सूर्य देव का चित्र लगाना चाहिए ।

3) सूर्योदय के समय गायत्री मंत्र सात बार उच्चारण करके सूर्य भगवान को जल अर्पित करना चाहिए।

4) यदि पूर्व दिशा में खिड़की न हो तो पूर्व दिशा में एक दीपक रोज जलाना चाहिए।

5) पूर्व दिशा में लाल पीले रंग का प्रयोग करना चाहिए इससे दिशा दोष समाप्त होता है।

6) पूर्व दिशा  सूर्य यंत्र की स्थापना करनी चाहिए ।

आग्नेय कोण (दक्षिण पूर्व) दिशा के वास्तु दोष उपाय

1) इस दिशा में लाल रंग एक बल्ब या एक दीपक इस प्रकार से जलाये की वह लगभग एक प्रहर (तीन घंटे )  जलता रहे ।

2) गणेश जी की मूर्ति  तस्वीर स्थापित करे ।

3) इस दिशा में मनीप्लांट लगाये । सूरजमुखी फूल , पालक , तुलसी, गाजर तथा अदरक , हरी मिर्च मेथी , हल्दी, पुदीना, करी पत्ता आदि उगाय।

4) इस दिशा का दोष करने लिए रेशमी परिधान, वस्त्र सौंदर्य की वस्तुए घर की स्त्रियों को देकर प्रसन्न रखे ।

5) इस दिशा में शुक्र यंत्र लगाना चाहिए।

6) दक्षिण दिशा के वास्तु दोष निवारण उपाय

7) घर का भारी से भारी सामान इस दिशा में रखे।

8) मंगल ग्रह के मंत्रो का दान करे।

9) इस दक्षिण दिशा की दिवार पर लाल रंग का हनुमान जी का चित्र लगाये।

10) दक्षिण दिशा दिवार पर मंगल यंत्र की स्थापना करे।

11) यदि इस क्षेत्र खाली जगह हो तो पेड़ गमले होने चाहिए।

नेत्रत्य कोण (दक्षिण पश्चिम दिशा) के वास्तु दोष उपाय

1) भरी मुर्तिया इस दिशा में रखे। 

2) वाणी पर नियन्त्र रखे।

3) राहु के मंत्रो का जाप इस दिशा में करे।

4) चांदी,सोने,या ताम्बे के सिक्के या नाग -नागिन के जोड़े की पूजा करे तथा इसे नेत्रत्य कोण की दिशा में दबा दे। राहु यंत्र की स्थापना करे।

पश्चिम दिशा के वास्तु दोष निवारण उपाय

1) पानी का फवारा लगाना चाहिए।

2) पश्चिम दिशा में शनि यंत्र की स्थापना करे। स्थापना के समय प्रार्थना करके शुभ कार्य करे।

3) इस दिशा को ऊँचा रखे,इस दिशा को वर्गाकार या आयताकार रखे।

4) भारी पोधे लगाये।

वायव्य कोण(उत्तर पश्चिम दिशा)के वास्तु दोष उपाय

1) इस दिशा में मारुतिदेव की तस्वीर लगाये। हनुमानजी की तस्वीर भी लगा सकते है।

2) यदि खुला स्थान हो तो ऐसे वृक्ष लगाये जिसके पत्ते मोटे हो।

3) वायु देव या चन्द्र देव के के मंत्रो का जाप करे।

4) ताज़ा फूलो का गमला लगाये।

5) माँ का आदर करे तथा चरण छूकर आशीर्वाद ले।

6) सोमवार को शिवलिंग पर जल चढ़ाये।

7) चन्द्र यंत्र की स्थापना करे।

उत्तर दिशा के वास्तु दोष निवारण उपाय

1) उत्तर दिशा में बड़ा आदमकद शीशा लगाये।

2) हरे रंग का हल्का पेंट करवाये।

3) लक्ष्मी माता की मूर्ति लगाये।

4) बुध यंत्र की स्थापना करे।

5) विद्यार्थियों को अध्यन सामग्री दान करे।

6) इस दिवार पर हरे तोते की फोटो लगाने से पढ़ाई में कमज़ोर बच्चो को फायदा मिलता है।

यह थे अत्यंत सरल वास्तु दोष निवारण के उपाय। यह छोटी छोटी बातें ही आपके जीवन में बड़ा परिवर्तन ला सकती हैं। एक बार आजमा कर देखें। किसी भी प्रकार के ज्योतिषीय प्रश्न के लिए सम्पर्क करें।

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.