जो लोग महा सुदर्शन मंत्र का जाप करते हैं वे भगवान विष्णु के साथ-साथ सुदर्शन चक्र को भी अपनी प्रार्थना अर्पित करते हैं, इसलिए सुदर्शन चक्र का प्रत्येक भाग व्यक्ति के पक्ष में काम करना शुरू कर देता है। 

महा सुदर्शन मंत्र आपके जीवन से सभी अनावश्यक तत्वों को काटने का काम करता है।यह एक व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से सुदृढ़ करता है। यह मंत्र भगवान विष्णु की कृपा प्रदान करता है जिससे व्यक्ति सही जीवन निर्णय लेने लगता है और उसे सफलता और समृद्धि के मार्ग पर चलने को प्रेरित करता है।

महा सुदर्शन मंत्र का जाप  कब करें?

महा सुदर्शन मंत्र का जाप एकादशी से शुरू करें तो बेहतर है। रोजाना  नहीं  तो  बुधवार और शनिवार को मंत्र जाप करने से  लाभकारी परिणाम मिलते हैं।

महा सुदर्शन मंत्र का जाप कैसे करें?

महा सुदर्शन मंत्र का जाप करते समय भगवान विष्णु को तिल के लड्डू का भोग लगाया जाता है।आप तिल के लड्डू के अलावा अन्य मीठी वस्तुओं का  भोग भी लगा सकते हैं।

प्रातः काल नहा कर विष्णु जी की मूर्ति के सामने मंत्र का जाप करें। आप  9, 11, या 108 बार मंत्रों का जाप कर सकते हैं। भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते चढ़ाने से अतिरिक्त लाभ मिलता है।

आप मंत्र जाप के लिए   तुलसी या  क्रिस्टल की माला का प्रयोग करें तो बेहतर परिणाम पा सकते हैं।

महा सुदर्शन मंत्र

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं कृष्णाय गोविंदाय
गोपीजन वल्लभाय पराया परम
पुरुष परमथमान परा कर्म
मंत्र यन्त्र तंत्र औषाध विश
आबिचार अस्त्र शास्त्र
संहार संहार मृत्युयुर मोचया मोचया
ओम नमो भगवते
महा सुदर्शनाय ओम प्रीम रम
दीपत्रय ज्वाला पारितय
सर्व दिगच्छोभणकारे कराय्या
हम फट पर भ्रष्मणे
स्वाहा
ओम ज्ये नमो भगवते सुदर्शनाय
ॐ नमो भगवते महा सुदर्शनाय
महा चक्राय महा ज्वालाया
सर्व रोग प्रशमनाय
कर्म बंध विमोचनाय
पदाथिमस्थ पर्यन्थन
वादा जनिता रोगन पीठ जनिता रोगन श्लेस्मा।।

महा सुदर्शन मंत्र का अर्थ:

“हे भगवान कृष्ण, आप ब्रह्मांड के रक्षक और नियंत्रक हैं। आप सर्वोच्च हैं और गोपिकाओं के प्रिय हैं। हे परमात्मा, मुझे सभी प्रकार की बुराइयों से बचाओ। आप भगवान हैं जिनके हाथों में पूरी दुनिया है। आप सुदर्शन चक्र धारण करने वाले और चारों दिशाओं में दुष्टों का नाश करने वाले हैं।अब मैं अपने आप को पूरी तरह से आपके हवाले कर देता हूँ।”

सूर्य देवता की कृपा के लिए यह जपें

महा सुदर्शन मंत्र के लाभ

• मंत्र का जाप करने से  कुंडली में उपस्थित दोषों का प्रभाव कम हो जाता है।

• मंत्र जातक  को आत्मविश्वासी और निडर बनाता है।

• नियमित जप जातक के चारों ओर एक सुरक्षा कवच बनाता है जो उसे  बुरी से बुरी शक्ति से बचाता है।

• मंत्र का जाप किसी भी उम्र और लिंग की परवाह किए बिना कोई भी कर सकता है। जब एक  गर्भवती महिला महा सुदर्शन मंत्र का जप करती  है तो यह माँ और “होने वाले” बच्चे दोनों को आशीर्वाद देता है।

• मंत्र आपको ब्रह्मांड या भगवान से जोड़ता है और आपको आध्यात्मिक रूप से  बलवान बनाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *